ठंड मे कैसे करे छोटे बच्चो की देखभाल

child care ठंड मे कैसे करे छोटे बच्चो की देखभाल

कुछ ही समय पहले जन्मे बच्चो की देखभाल बहोत जरूरी होती है खास कर ठंड के मौसम मे। इस मौसम मे बच्चो को कई खतरो से बचाकर दूर रखना होता है। छोटे बच्चे सबसे ज्यादा कोमल और नाजुक होते है। जन्म के कुछ समय बाद तक बडो के मुकाबले इनके अंगो मे ज्यादा संवेदन शीलता होती है। तो आइये जानते है बच्चो के health tips के बारे मे…

ठंड मे कैसे करें बच्चो की देखभाल ( thand me kaise kare bachcho ki care in hindi )

सर्दी से बच्चे को बचाने के लिये आज-कल घरो मे हीटर का प्रयोग होता है अगर आप भी ऐसा ही करते है तो इसे बंद कर दें क्योकी हीटर से निकली हुई dry air बच्चो को नुकसान पहुचाती है।

बच्चो को सोते समय ठंड से बचाने के लिये उस पर बहोत सारे कपडो का बोझ ना डालें नही तो सांस लेने मे दिक्कत होगी इसलिये इस पर ध्यान रखे और ऐसे व्यवस्था करें की वे सांस आसानी से ले सके। शरीर के मह्त्वपूर्ण अंगो को ढककर रखे जैसे सिर, कांन, हॉथ व पैरो की हथेलिया आदी।

बच्चो को नहलाते समय पानी को गुनगुना रखे । इसका बार-बार परिक्षण करे क्योकी कई बार ठंड मे पानी गरम होने पर भी हमे उसके सही तापमान का आभास नही होता इसलिये पानी की बार-बार जॉच जरूरी है। और ध्यान रखे की नहलाते वक्त पानी को गर्दन के उपर ना ले जायें क्योकी इससे बच्चे घबरा जाते है।

नहलाने के बाद सरसो के तेल से अच्छी तरह मालिस करें। छोटे बच्चो का प्रतिदिन मालिश आवश्यक है इससे पूरे शरीर मे खून का संचार बेहतर होता है व अकडन भी खतम होती है।

ठंड के दिनो मे धूप मे बैठना सभी को अच्छा लगता है ये बच्चो के लिये जरूरी भी है क्योकी धूप से मिलने वाला विटामिन-डी हड्डियो (vitamin-D) को मजबूत बनाता है। इसलिये प्रतिदिन बच्चे को सनबाथ करायें।

बच्चो के दूध के बॉटल को इस्तेमाल करने से पहले गरम पानी से धो लें इसके बाद ही प्रयोग करें क्योकी ऐसा करने से बॉटल मे जमा किटाणू साफ हो जाते हैं। पीने वाले दूध का तापमान normal रखें।

इस मौसम मे बच्चो को लेकर कही भी सफर करने से बचे अगर जाना जरूरी है तो ऐसे गाडियो का चुनाव करें जिसमे ठंड हवा से बचाव हो सके।

.

.

.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *