इन इमारतो की अजीबो-गरीब बनावट देखकर दंग रह जायेंगे आप।

इन इमारतो की अजीबो-गरीब बनावट देखकर दंग रह जायेंगे आप।

आज पूरी दुनिया बहोत तेजी से विकास कर रही है व अलग-अलग तरह के Architecture को भी बढावा मिल रहा है। इसलिये दुनियॉ मे कई प्रकार की इमारते देखने को मिलती हैं और इनमे से बहोत से इमारतो को उनके अजीबो-गरीब निर्माण के कारण जाना जाता है इनकी खास तरह की बनावट लोगो को आकर्षित करती है जिसे देखने टूरिस्ट दूर-दूर से भी आते है। हर साल अक्टूबर माह मे ‘ World Architecture Day’ सेलेब्रेट किया जाता है। जो इस साल अक्टूबर के पहले सोमबार मे सेलीब्रेट किया जायेगा तो आइये जानते है कुछ अनोखे इमारतो के बारे मे

Dancing Building, Czech Republic

डांसिंग बिल्डिंग,चेक रिपब्लिक

 the Dancing House in Prague (source of image is civicartsproject.com)
the Dancing House in Prague (source of image is civicartsproject.com)

डांसिंग बिल्डिंग को dance के मसहूर कलाकार Fred and Ginger के कारण  पहचाना जाता है क्योकी बिल्डिंग देखने मे किसी डांसिंग कपल की तरह दिखाई देते है इसलिये इसका नाम इन दो मसहूर कलाकारो के नाम पर रखा गया। इस बिल्डिंग को बनाने का काम 1994 मे शुरु हुआ था जो तीन साल तक चला और 1996 मे बनकर तैयार हो गया। कहा जाता है इस घर को 1945 मे बम से उडा दिया गया था इसके बाद Czech ex-president Vaclav Havel ने उसे दोबारा बनाने के लिये  Vlado Milunic को घर का architectural study करने को कहा। बाद मे Vlado Milunic ने Frank Gehry से मिलकर 1992 मे इसका design तैयार किया।

The Basket Building (Ohio, United States)

द बास्केट बिल्डिंग, ओहिओ, अमेरिका

The Basket Building (newark-ohio-longaberger-headquarters-front)
The Basket Building (newark-ohio-longaberger-headquarters-front)

बडी सी बास्केट की तरह दिखने वाली इस इमारत को 17 दिसम्बर 1997 मे बनाया गया था। इस इमारत को Dave Longaberger ने बनवाया है जो  The Longaberger Company के Founder है। Longaberger की ये अमेरिकन Company हांथो से बनाये हुये लकडी के बॉक्स का निर्माण करती है व इसका distribute भी बडे पैमाने मे करती है। कम्पनी इसके आलावा अन्य home product भी तैयार करती है। क्योकी कम्पनी बास्केट बनाने का काम करती थी इसलिये डेव अपनी कम्पनी के लिये बडे बास्केट की तरह दिखने वाला office बनावाना चाहते थे और इसी सपने को पूरा करने लिये उन्होने इस इमारत को तैयार करवाया।

Kansas City Public Library, United States

कैनसस सिटी पब्लिक लाइब्रेरी, अमेरिका

Kansas City Public Library (Missouri, United States)
Kansas City Public Library, United States

अमेरिका के इस कैनसस सिटी पब्लिक लाइब्रेरी के पार्किंग गैराज को एक बडे बूक शेल्फ का आकार दिया गया है जिसे देखने पर लगता है मानो बडे-बडे किताबे लाइन से रखी हुई है। इन किताबो की लम्बाई 25 फुट व चौडाई 5 फूट तक है जो लोगो को अपनी ओर आकर्षित करता है।

The Niteroi Contemporary Art Museum, Brazil

द निटेरॉय कंटेम्परी आर्ट म्युजियम, ब्राजील

The Niteroi Contemporary Art Museum, Brazil
The Niteroi Contemporary Art Museum, Brazil

निटेरॉय कंटेम्परी आर्ट म्युजियम एक Art gallery है जिसे Oscar Niemeyer  ने 2006 मे बनाया है।

The Crooked House, Poland

द क्रुकेड हाउस, पोलैंड

The Crooked House, Poland
The Crooked House, Poland

Crooked House को पहली बार देखने पर हर व्यक्ती थोडा सा हैरान होता है क्योकी इसकी इमारत टूटी हुई लगती है। देखने पर लगता है जैसे किसी आन्धी या तूफान ने इसे तोड-मरोड कर रख दिया हो। इसकी इस बनावट के कारण इसे दुनिया के टॉप strangest buildings मे स्थान दिया गया है। इस अजीब से घर को 2004 मे Szotyńscy & Zaleski के द्वारा 43,000 square-foot के क्षेत्र मे बनाया गया था।

Lotus Temple, Delhi, India

लोटस टेम्पल (कमल मंदिर), दिल्ली,भारत

lotus-temple-delhi-india

कमल की तरह दिखने वाले इस इमारत को Lotus Temple कहते हैं जिसे हिन्दी मे कमल मंदिर के भी नाम से जाना जाता है एक अदभुद इमारत है जो दिल्ली मे स्थित है। यह एक प्राथना मंदिर है जो की सभी मंदिरो से अलग है ये मंदिर खास इसलिये है क्योकी इसके अंदर ना कोइ मूर्ती और ना ही मंदिर के अंदर कोइ पूजा पाठ,हवन जैसा कार्य होता है। इसके अंदर बहोत शांती होती है इसलिये यहॉ आकर लोग सिर्फ प्राथना करते है व अपना ध्यान केन्द्रित करते हैं। इस मंदिर को कमल की तरह इसलिये बनाया गया है क्योकी कमल पवित्रता व शांती का प्रतीक है इसके साथ ही कई हिन्दू देवताओ के हांथो मे भी देखा गया है। इसके अलावा कमल का फूल कीचड मे खिलते हुये भी साफ व सुन्दर होता है जिससे हमे प्रेरणा मिलती है।

 

Cubic Houses, Rotterdam, Netherlands

क्युबिक हाउस,निदरलैंड

cubic-houses-rotterdam-netherlands
Source of image is JourneyAboutTheGlobe.Com

Cubic houses एक innovative house का set है जिसका निर्माण किया है Piet Blom ने। क्युबिक हाउस देखने वाले हर सक्स को अपनी तरह आकर्षित करता है और इनमे से सभी लोग इसके बारे मे पूरी तरह से जानने के लिये उत्सुक हो जाते है। इन घरो को एक छ: कोनो वाले खम्भो पर टिकाया गया है। घरो मे मुख्यता चार फ्लोर है जिनमे ग्राउंड फ्लोर पर इस घर मे जाने के लिये द्वार बनाये गये हैं। पहले फ्लोर पर रहने के लिये एक बडा कमरा व किचन बनाये गयें है। दूसरे फ्लोर मे दो बेडरूम और एक बाथरूम बनाया है। सबसे उपर के ग्राउन्ड ने खिडकियां होने के कारण इसे garden के रूप मे भी उपयोग करते हैं।

National Centre for the Performing Arts, China

नेशनल सेंटर फॉर द परफॉर्मिंग आर्ट, चाइना

National Centre for the Performing Arts, China
National Centre for the Performing Arts, China

इस आर्ट के बनने की शुरुआत दिसम्बर 2001 मे हुई थी व शुभारम्भ दिसम्बर 2007 मे किया गया था। बिल्डिंग को बनाने वाले French architect Paul Andreu हैं। ये बिल्डिंग देखने मे किसी अंडे की तरह दिखाई देती है इसलिये वहॉ के आम बोलचाल की भाषा मे इसे एक बडा अंडा भी कहा जाता है। इसे एक गोल गुम्बद की तरह बनाया गया है व titaniumऔर कॉच से कवर किया गया है। बिल्डिंग के चारो तरफ मानव निर्मित तालाब है जिसे देखने पर लगता है की बडा अंडा पानी की ओर तैर रहा है या कोइ बडी सी पानी की बून्द तालाब के उपर है। वैसे इसे बनाने का मकसद भी यही था की लोग इसे पहली बार मे ही दिल पर बसा लें।

Statoil’s Norway HQ

स्टेऑइल नॉर्वे हेड क्वाटर

statoils-norway-hq

स्टेऑयल नॉर्वे की सबसे बडी तेल कम्पनी है इस कम्पनी की उत्पाद लगभग 13 देशो मे पहुचाया जाता है। उपर दिया हुआ photo स्टेऑयल का हेड क्वार्टर है जो की  नॉर्वे मे Oslo के पास Fonebu मे स्थित है। स्टेऑयल के इस बिल्डिंग को दुनिया का सबसे बेहतरीन ऑफिस बिल्डिंग कहा जाता है। इसे the Best Commercial Building prize at the World Architecture News Awards से सम्मानित किया गया है।

veerendra is Founder and writer of its new think site. he is inspired by the hard work , Every time they have something new to think and believes that learning has no age

Note:-अगर आपको किसी article मे गलती का अहसास होता है तो हमे comment के द्वारा बतायें

Leave a Comment