कहीं आपका बच्चा computer पर जरूरत से ज्यादा समय तो नही बिताता

aapka bachcha computer par jarurat se jyada samay to nhi bitata

आधुनिकता के साथ चलना अच्छा है पर पूरे समय इसमे ही लगे रहना खतरनाक हो सकता है। आज के समय मे बच्चे आधुनिकता के नाम पर कई घंटे computer या mobile मे बेवजह ही बिता देते है। अगर आपका बच्चा भी ऐसा ही कर रहा है तो सावधान हो जाइये ये एक चिंता का विषय है और इसके कारण उसके शारीरिक व मानसिक दोनो growth पर असर पडता है।

अकसर देखा जाता है इस आदात या लत (computer addiction) की बडी बजह बच्चे के माता पिता ही होते है। कई माता-पिता अपने बच्चे की जिद को पूरा करने के लिये या उसे शरारत करने से रोकने के लिये computer का सहारा लेते है बाद मे यही उसका हिस्सा बन जाता है। कई कोशिसो के बाद भी इस आदत को दूर करना मुस्किल होता है।

Computer की ये आदत बच्चो मे इस समस्याओ को उतपन्न करती है

ऑखे कमजोर होतीं है

computer का लगातार प्रयोग करने से ऑखे कमजोर होने लगतीं है इससे निकलने वाली किरणे ऑखो की रेटीना पर असर करतें है और नतीजा ये होता है की धीरे-धीरे ऑखो मे जलन की समस्या होने लगती है व कम दिखाई देता है यही कारण है की आज के बच्चो को कम उम्र मे ही चस्मे लगने लगते है।

मोटापे का शिकार होना

कई शोधकर्ताओ ने माना है की ज्यादा computer का उपयोग मोटापे की बडी वजह होती है। इसकी बजह से बच्चे कई घंटो तक एक ही जगह बैठे रहते है और उनकी चर्बी बढने लगती है। शारीरिक चर्बी को कम करने के लिये शरीर के अंगो का movement होना चाहिये पर जब शरीर मे किसी तरह की activity नही होती तो शरीर extra चर्बी burn नही कर पाता और बच्चा समय के सांथ मोटापे का शिकार होता चला जाता है।

लोगो से दूरी

computer addicted होने के कारण बच्चे घर से बाहर नही जा पाते या नही जाना चाहते जिसके कारण लोगो से उसका मेल-जोल कम होने लगता है और बह इन सब से दूर हो जाता है। ऐसे मे अकेलापन भाने लगता है, ज्यादा लोगो से ना मिलने पर बच्चा शर्मीला हो जाता है और इसका असर भविस्य मे देखने को मिलता है। भविस्य मे बच्चा जब बडा हो जायेगा तो अपने शर्मीलेपन के कारण वह किसी के सामने अपनी पूरी बात रखने मे कतरायेगा।

नींद खराब होना

computer addicted या computer प्रेमी को ज्यादातर निशाचर कहा जाता है जिसका मतलब है रात मे जागने वाला, क्योकी अकसर ऐसे बच्चे रातभर जागकर उसी मे लगे रहते है और जब सबके जागने का वक्त (time) होता है तो वे सोते है। इससे उनकी नीन्द खराब होती है और शरीर का संतुलन बिगडता है क्योकी स्वस्थ शरीर के लिये एक अच्छी नींद जरूरी है।

ऐसे दूर करे इस आदत को

बैसे तो computer या mobile की लत को दूर करना बहोत मुस्किल होता है, कई लोग तो चाहते हुये भी इसे दूर नही कर पाते पर अगर प्रयास किया जाय तो इससे छुटकारा पाया जा सकता है।

Outdoor Game के लिये प्रोत्साहित करें

घर के बाहर खेले जाने वाले खेलो जैसे- क्रिकेट, फुटवॉल के लिये बच्चे को प्रोत्साहित करें। उसे इन खेलो से होने वाले फायदो के बारे मे बताये शुरुआत मे हो सकता है वो ना सुने पर प्रयास करते रहेंगे तो सफल होंगे। कुछ समय बाद खेल मे मन लगने पर बच्चा खुद इसे पसंद करने लगेगा और computer पर कम समय व्यतीत करेगा।

Computer पर ज्यादा Game ना रखे

बच्चो के computer को समय-समय मे चेक करते रहें और अगर वह दिनभर computer game खेलने मे व्यस्थ रहता है तो उसके computer मे ज्यादा game ना रहने दें उसे सीमित कर दें, ताकी वे पूरा दिन उन्ही computer game मे ना उलझे।

Time Fix करें

कई कोशिसो के बाद भी बच्चा आपकी बात नही सुन रहा है तो थोडी सक्ती बरतना भी जरूरी है, इसके लिये उसके computer इस्तेमाल की समय-सीमा तय कर लें। प्रतीदिन के हिसाब से दिनचर्या (time table) बनाये जिसमे सभी कार्यो के लिये समय निर्धारित की गई हो और इसी time table के अनुसार बच्चे को चलने के लिये कहें।

नजर रखें

प्रतीदिन कमप्यूटर मे बच्चा इतनी देर क्यो लगाता है, उसके द्वारा internet पर क्या search किया जाता है इसकी जानकारी आपको होनी जरूरी है। इन सब का data पता होने पर आपको ये मालुम रहेगा की आपका बच्चा सही राह पर है या नही। और अगर वह गलत राह पर जा रहा है तो अभी देर नही हुई उसे रोका जा सकता है।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *