तुलसी के ये है अदभुत लाभ। जानकर हैरान रह जायेंगे आप

तुलसी के ये है अदभुत लाभ। जानकर हैरान रह जायेंगे आप

 the amazing benefits basil. you will be shocked

tulsi-ke adbhut-fayde

तुलसी का भारतीय संभ्यता मे बहोत अत्यधिक महत्व है इसके अपने कई फायदे है। भारतीय परंपराओ मे तुलसी का विशेस महत्व होने के कारण ये लगभग सभी भारतीय घरो मे पाई जाती है। कहा जाता है जिस घर मे तुलसी का पौधा होता है वहा आकाश से गिरने वाली बिजली की संभावना कम होती है ये सबसे ज्यादा प्राण वायु यानी ऑक्सीजन प्रदान करती है। वैसे तो तुलसी की कई प्रजातिया पाई जाती है पर मुख्यता दो प्रकार की तुलसी का प्रयोग औषधी के रूप मे ज्यादा किया जाता है जिसमे काली तुलसी सबसे ज्यादा फायदेमंद होती है ये दूसरो के मुकाबले ज्यादा तेज व तीखी गंध वाली होतीं है।

तुलसी के गुण

इसके कई आश्चर्यजनक गुण है जो शरीर से रोगो को दूर करते है उन्हे पास नही आने देते इन गुणो मे से है-

त्वचा के रोग दूर करना

पाचन शक्ती तेज करना

मुह की दुर्गंध दूर करना

दिल के रोग को ठीक करना

रक्त संचार बेहतर करना

हवा को साफ रखना

भूख बढाना

प्रतिरोधक क्षमता बढाता है

रोगो के लिये औषधी के रूप मे प्रयोग

सर्दी-जुकाम

ठंड या बारिष मे भीगने से होने वाले सर्दी-जुकाम को तुलसी के पत्ते बहोत जल्द ठीक कर देते है क्योकी इसमे एंटीऑक्सीडेंट भरपूर मात्रा मे होते है

सर्दी-जुकाम से राहत पाने के लिये अदरक वाली चाय मे दस पत्ते तुलसी के भी मिलाये सर्दी-जुकाम से राहत मिलेगी ये और भी अधिक काम करेगा यदी आप गुड की चाय मे तुलसी के पत्तो का प्रयोग करे। जुकाम हटाने के लिये तुलसी वाले पानी का भाप भी ले सकते है।

तुलसी और अदरक को पीसकर उसका रस निकाल ले और शहद मे मिला कर दिन मे तीन से चार बार एक-एक चम्मच पिये आपको सर्दी-जुकाम से राहत मिलेगी पर इसे बनाते समय मात्रा का खास ध्यान रखे।

खासी

कहा जाता है जो लोग इसका प्रतिदिन सेवन करते है उन्हे खासी की समस्या नही होती व मुह से दुर्गंध भी नही आती।

खासी से निजात पाने के लिये इसका काढा बना ले और प्रतीदिन सुबह शाम पिये खासी चली जायेगी। आप इसके सूखे हुये पत्तो को शहद के साथ भी प्रतीदिन आधा चम्मच खा सकते है।

अगर खासी लम्बे समय से चली आ रही है तो काली तुलसी का प्रयोग करे इसके लिये तुलसी, अदरक, काली मिर्च, काला नमक मिलाकर पानी मे उबाल ले और फिर इस पानी से कुल्ला करे खासी कम हो जायेगी।

गले का खरास

गले के खरास को दूर करने के लिये भी तुलसी प्रयोग आधिक मात्रा मे होता है इसके लिये तुलसी के रस का प्रयोग शहद के साथ करें। और अगर बलगम की समस्या हो तो इसके रस मे थोडा चीनी मिलाकर शरबत बनाये और पिये बलगम समाप्त हो जायेगी।

सिरदर्द

सिरदर्द को हटाने के लिये तुलसी की चाय का भी सहारा ले सकते है अगर इससे भी दर्द दूर ना हो तो इसे पीसकर लेप बना ले व इसे माथे पर लगायेंं दर्द चला जायेगा।

त्वचा रोग चेचक

चेचक को आम बोलचाल की भाषा मे बडी माता भी कहा जाता है जिस पर अगर ध्यान ना दिया जाये तो कभी-कभी इसके निशान हमेशा के लिये रह जाते है।

चेचक के दानो को हटाने के लिये प्रतिदिन सुबह तुलसी का रस पिलाना चाहिये व तुलसी के पत्तो के साथ अजवायन को पीसकर रोगी को देना चाहिये।

दाद

दाद को ठीक करने के लिये पहले उसे अच्छे से साफ कर ले इसके बाद तुलसी का रस लगाये या फिर तुलसी के पत्तो का पेस्ट बनाकर लगाये कुछ ही दिनो मे फर्क पडेगा व दाद धीरे-धीरे कम होकर समाप्त हो जायेगा।

पेट के रोग

पेट के रोग कई कारणो से होते है जैसे समय पर ना खाना या फिर ज्यादा तला मसालेदार खाना व बासी खाना।

मुह मे छालो की समस्या

छालो की समस्या सही खान-पान ना कर पाने से होती है जिससे हमारा पेट खराब हो जाता है और हमारे मुह मे छाले हो जाते है। अगर आपको भी छालो की समस्या है तो इस प्रकार से इन्हे दूर किया जा सकता है।

मुह के छालो को हटाने के लिये पानी मे 10 से 15 तुलसी पत्तीया डालकर उबाले इससे बार-बार कुल्ला करे व तुलसी की ताजा पत्तीयो को चाबायें।

अगर बहोत जल्दी इस समस्या से छुटकारा पाना चाहते है तो तुलसी व चमेली की पत्तीयो को बराबर मिलाकर चबाये और इसे मुह के छाले वाले हिस्से मे दबाकर रखे इसे मुह मे रखने से थोडा दर्द महसूस होगा पर छाले जल्द ही ठीक हो जायेंगे।

पथरी

शरीर मे पथरी खून के अंदर उपस्थित युरिक एसिड के बढने से उत्पन्न होती है तुलसी इस एसिड को धीरे-धीरे कम करता है जिससे पथरी कुछ महीनो मे शरीर के अंदर ही घुल जाता है व पथरी की समस्या समाप्त हो जाती है।

पथरी हटाने के लिये तुलसी के रस मे शहद व पानी मिलाकर पीते रहे चार महीनो मे ही असर साफ दिखाई देगा।

 

 

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *