केशर के आयुवेदिक लाभ आपको कर सकते है हैरान। benefits of saffron

केशर के आयुवेदिक लाभ आपको कर सकते है हैरान

यह एक सुंगन्धित फूल होते है जिन्हे जफरान और saffron के नाम से भी जाना जाता है। यह दुनिया के सबसे महगे मसालो मे गिना जाता है। इसका एक कारण गुणवत्ता मे अधिकता व इसकी मात्रा मे कमी के कारण हो सकता है।

saffron flower

केशर दुनिया भर मे अपने औषधीय गुणो और अदभुत स्वाद के कारण जाना जाता है। यह मुख्यरूप से जाफरान के फूल मे निकले हुये वर्तिकाग्र होते है जो केशर के नाम से जाने जाते है। सभी फूलो मे दो से तीन वर्तिकाग्र ही पाये जाते है। इसका का उपयोग कई तरह के रोगो जैसे- कैंसर, वात-कफ, पाचन, सर्दी-जुकाम, रक्तचाप से मुक्ती पाने के लिये किया जाता है। इसके अलावा कई तरह के व्यंजनो मे केशर का उपयोग इसके स्वाद व उत्तेजक के रूप मे किया जाताहै।

आयुर्वेदो मे केशर को उत्तेजक के रूप मे जाना जाता है जो कामशक्ती को बढाती है। यह मुत्राशय, मस्तिक और ऑखो जैसे अंगो के लिये लाभकारी होते है। भारत मे केशर का उपयोग दूध से बने पदार्थो मे सर्वाधिक किया जाता है। जिसके कारण इसके गूणो मे भी बृद्धी होती है।

चलिये जानते है इससे होने वाले फायदो के बारे मे

benefits of saffron

केशर से दूर होने वाले रोग

keshar se door hone wale rog

कैंसर

कई शोध मे पाया गया है की केशर अलग-अलग प्रकार के कैंसर मे फायदेमंद हो सकता है। यह कैसर के सेल्स को धीरे-धीरे कम करता है। व कैंसर मे कम हुये बालो को भी दोबारा मजबूती से उगाने मे मदद करता है।

सर्दी जुकाम

आयुर्वेद मे इसे गर्म-स्वाभाव का कहा जाता है। जो सर्दी-जुकाम को कम समय मे ही खत्म कर शरीर को राहत देता है। इसलिये प्रतीदिन इसे गर्म दूध मे डालकर पीना चाहिये।

बच्चो के सर्दी-खासी को बन्द करने के लिये 25 से 30 मिलीग्राम केशर को दूध के साथ मिलाकर दिन मे दो बार देना चाहिये व केशर का लेप सीने मे करे।

अस्थमा

अस्थमा फेफडो मे होने वाले सूजन की वजह से होते है। जिसके कारण सांस लेने मे परेशानी होने लगती है। केशर इन सुज़नो को कम करता है और सांस लेने मे आसानी होती है।

इसके उपचार के लिये इसकी उपयुक्त मात्रा ही इस्तेमाल करनी चहिये।

रक्तचाप

केशर रक्त प्रवाह को नियंत्रण कर रक्तचाप को बेहतर बनाने मे सहायक होता है।और हृदय समबंधी रोगो को दूर कर हृदय को मजबूत बनाता है।

इसके लिये 100 मिलीग्राम केशर को 50 मिलीलीटर पानी मे मिलाकर रातभर के लिये मिट्टी के बरतन मे रख दे व सुबह किसमिस खाने के बाद पिये।



इनमे भी है फायदेमंद

गर्भ के समय लाभकारी

महिलाओ के गर्भ के समय उन्हे केशर वाला दूध पीने को कहा जाता है। क्योकी इन दिनो होने वाले कई तकलीफो से यह आराम दिलाता है। गर्भ के समय महिलाओ मे पाचन व रक्तचाप जैसी समस्याये होती है। जिसे केशर सही करता है व भूख भी बढाता है। गर्भ के कारण कुछ महिलाओ मे चिडचिडापन भी आंने लगता है जिसे यह दूर करता है।

जानकारो के अनुसार गर्भवती महिला के द्वारा केशर के सेवन करने से बच्चा सुन्दर व तंदरुस्त होता है।

गर्भवस्था के दौरान दिये जाने वाले केशर की मात्रा को ध्यान मे रखना चाहिये नही तो गर्भपात हो सकता है। इस समय एक ग्लास दूध मे एक चुटकी केशर लाभकारी हो सकता है पर उपयोग करने से पहले चिकित्शक की सलाह लें।

त्वचा के लिये उपयोगी

अकसर सुन्दर और चमकदार त्वचा के लिये केशर की सलाह दी जाती है क्योकी इसमे कई एंटी-एजिंग और एंटी-ऑक्सीडेंट तत्व पाये जाते है जो चेहरे की बाहरी तत्वो से सुरक्षा कर कील-मुहासो और झुर्रियो को दूर करती है। इसके कारण चेहरे पर कसावट आती है व चेहरा जवान दिखाई देने लगता है।

चेहरे मे रंगत लाने के लिये दूध मे केशर व छोटी इलाइची उबालकर प्रतीदिन पीना चाहिये।

कमजोरी दूर करता है

इसके नियमित सेवन से शारीरिक शक्ती बढती है, कमजोरी दूर होती है और पुरुषो मे पुरुषोत्व की कमी नही होती।

जायफल-केशर को जावित्री पान मे रखकर या केशर का उपयोग दूध से बने पदार्थो के साथ प्रतीदिन करना चहिये।

केशर का ज्यादा उपयोग हानिकारक भी होता है जिससे इन समस्याओ का सामना करना पड सकता है।

  • नाक से खून आना
  • सिर दर्द
  • उल्टी

केशर का उपयोग करते समय इसकी मात्रा का खास ध्यान रखना चाहिये। क्योकी इसकी छोटी मात्रा भी प्रतीदिन उपयोग करने से कई गम्भीर शारीरिक समस्याये उतपन्न हो सकती है। इसलिये लगातार उपयोग करने से पहले डॉ. से सलाह जरूर लें।

अगर आपको हमारे article पसंद आते है तो हमारे facebook page को Like करे और हमसे जुडे रहे। 

अपना सुझाव comment द्वारा बताये।

key word-

benefits of saffron, kesar ke labh, kesar ke adabhut fayde, rogo me labhdayak, kesar,

chehare me nikhar laye keshar, kesar ke chamtkari upyog



You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *